Food Travel Hatke Fashion Lifestyle Viral Health Entertainment Sports News Deals & Offers
Home ›› Viral ›› ताजमहल के 5 रहस्य, जानकर चौंक जाएंगे

ताजमहल के 5 रहस्य, जानकर चौंक जाएंगे

by Webdunia | Updated: Nov 10, 2020 at 09:55 | Views: 203

ताजमहल के 5 रहस्य, जानकर चौंक जाएंगे
Source: wikimedia

ताज महल किसने बनाया यह रहस्य आज भी बरकरार है। ताजमहल शाहजहां का बनवाया हुआ मकबरा है या राजपूत राजा की ओर से मुग़ल बादशाह को तोहफ़े में दिया गया प्राचीन शिव मंदिर? आओ जानते हैं इसके 5 रहस्य। 


 1. सात आश्चर्यों में से एक : यमुना नदी के किनारे सफेद पत्थरों से निर्मित अलौकिक सुंदरता की तस्वीर 'ताजमहल' न केवल भारत में, बल्कि पूरे विश्व में अपनी पहचान बना चुका है। ताजमहल को दुनिया के सात आश्चर्यों में शामिल किया गया है। 

 2. शहजहां और मुमताज का मकबरा : भारतीय इतिहास के पन्नों में यह लिखा है कि ताजमहल को शाहजहां ने मुमताज के लिए बनवाया था। वह मुमताज से प्यार करता था। दरअसल, इसे शाहजहां और मुमताज का मकबरा माना जाता है दुनिया भर में ताजमहल को प्रेम का प्रतीक माना जाता है, लेकिन कुछ इतिहासकार इससे इत्तेफाक नहीं रखते हैं। इतिहासकार पुरुषोत्तम ओक ने अपनी पुस्तक में लिखा हैं कि शाहजहां ने दरअसल, वहां अपनी लूट की दौलत छुपा रखी थी इसलिए उसे कब्र के रूप में प्रचारित किया गया। 

 3. क्या प्रेम एक झूठ था : प्रसिद्ध शोधकर्ता और इतिहासकार पुरुषोत्तम नागेश ओक ने ताज महल के रहस्य से पर्दा उठाया है। ओक अनुसार जयपुर राजा से हड़प किए हुए पुराने महल में दफनाए जाने के कारण उस दिन का कोई महत्व नहीं? पुरुषोत्तम अनुसार क्योंकि शाहजहां ने मुमताज के लिए दफन स्थान बनवाया और वह भी इतना सुंदर तो इतिहासकार मानने लगे कि निश्‍चित ही फिर उनका मुमताज के प्रति प्रेम होना ही चाहिए। तब तथाकथित इतिहासकारों और साहित्यकारों ने इसे प्रेम का प्रतीक लिखना शुरू कर दिया। उन्होंने उनकी गाथा को लैला-मजनू, रोमियो-जूलियट जैसा लिखा जिसके चलते फिल्में भी बनीं और दुनियाभर में ताजमहल प्रेम का प्रतीक बन गया। यह झूठ आज तक जारी है। मुमताज से विवाह होने से पूर्व शाहजहां के कई अन्य विवाह हुए थे अत: मुमताज की मृत्यु पर उसकी कब्र के रूप में एक अनोखा खर्चीला ताजमहल बनवाने का कोई कारण नजर नहीं आता। मुमताज किसी सुल्तान या बादशाह की बेटी नहीं थी। उसे किसी विशेष प्रकार के भव्य महल में दफनाने का कोई कारण नजर नहीं अता। उसका कोई खास योगदान भी नहीं था। उसका नाम चर्चा में इसलिए आया क्योंकि युद्ध के रास्ते के दौरान उसने एक बेटी को जन्म दिया था और वह मर गई थी। 

ALSO READ :

जानते हैं, एक ऐसे गांव के बारे में जहां पर 70 सालों से हो रहा है जुड़वा बच्चे पैदा

तेजो महालय

तेजो महालय
Source: blogspot

4.तेजो महालय : इतिहासकार पुरुषोत्त ओक ने अपनी किताब में लिखा है कि ताजमहल के हिन्दू मंदिर होने के 700 से अधिक सबूत मौजूद हैं। पुरषोत्तम नागेश ओक ने ताजमहल पर शोधकार्य करके बताया कि ताजमहल को पहले 'तेजो महलय' कहते थे। वर्तमन ताजमहल पर ऐसे 700 चिन्ह खोजे गए हैं जो इस बात को दर्शाते हैं कि इसका रिकंस्ट्रक्शन किया गया है। वास्तुकला के विश्वकर्मा वास्तुशास्त्र नामक प्रसिद्ध ग्रंथ में शिवलिंगों में 'तेज-लिंग' का वर्णन आता है। ताजमहल में 'तेज-लिंग' प्रतिष्ठित था इसीलिए उसका नाम 'तेजोमहालय' पड़ा था। तेजोमहालय उर्फ ताजमहल को नागनाथेश्वर के नाम से जाना जाता था, क्योंकि उसके जलहरी को नाग के द्वारा लपेटा हुआ जैसा बनाया गया था। यह मंदिर विशालकाय महल क्षेत्र में था।

पुरुषोत्तम ओक के अनुसार बादशाहनामा, जो कि शाहजहां के दरबार के लेखा-जोखा की पुस्तक है, में स्वीकारोक्ति है (पृष्ठ 403 भाग 1) कि मुमताज को दफनाने के लिए जयपुर के महाराजा जयसिंह से एक चमकदार, बड़े गुम्बद वाला विशाल भवन (इमारत-ए-आलीशान व गुम्बज) लिया गया, जो कि राजा मानसिंह के भवन के नाम से जाना जाता था। जयपुर के पूर्व महाराजा ने अपनी दैनंदिनी में 18 दिसंबर, 1633 को जारी किए गए शाहजहां के ताज भवन समूह को मांगने के बाबत दो फरमानों (नए क्रमांक आर. 176 और 177) के विषय में लिख रखा है। यह बात जयपुर के उस समय के शासक के लिए घोर लज्जाजनक थी और इसे कभी भी आम नहीं किया गया।

5. बाद में दफनाया था बेगम को : शाहजहां के दरबारी लेखक मुल्ला अब्दुल हमीद लाहौरी ने अपने 'बादशाहनामा' में मुगल शासक बादशाह का संपूर्ण वृत्तांत 1000 से ज्यादा पृष्ठों में लिखा है जिसके खंड एक के पृष्ठ 402 और 403 पर इस बात का उल्लेख है कि शाहजहां की बेगम मुमताज-उल-मानी जिसे मृत्यु के बाद बुरहानपुर (मध्यप्रदेश) में अस्थाई तौर पर दफना दिया गया था और इसके 6 माह बाद तारीख 15 मदी-उल-अउवल दिन शुक्रवार को अकबराबाद आगरा लाया गया फिर उसे महाराजा जयसिंह से लिए गए आगरा में स्थित एक असाधारण रूप से सुंदर और शानदार भवन (इमारते आलीशान) में पुनः दफनाया गया।

लाहौरी के अनुसार राजा जयसिंह अपने पुरखों की इस आलीशान मंजिल से बेहद प्यार करते थे, पर बादशाह के दबाव में वे इसे देने के लिए तैयार हो गए थे। इस बात की पुष्टि के लिए यहां यह बताना अत्यंत आवश्यक है कि जयपुर के पूर्व महाराज के गुप्त संग्रह में वे दोनों आदेश अभी तक रखे हुए हैं, जो शाहजहां द्वारा ताज भवन समर्पित करने के लिए राजा जयसिंह को दिए गए थे।


साभार : इतिहासकार पुरुषोत्तम नागेश ओक की पु्स्तक 'ताजमहल तेजोमहालय शिव मंदिर है' से अंश।

ALSO READ :

अमेरिका के मोनोवी गांव मे 87 साल की एक महिला रहती है अकेली, जानने के लिए पढ़ें इस खबर को

मोस्ट पॉपुलर रियलिटी शो बिग बॉस से जुड़े कुछ रोचक जानकारी

जानते है एक ऐसे गांव के बारे में , जहां पर बच्चों को मरने के बाद पेड़ के अंदर दफनाया जाता है

जानते हैं, दुनिया की सबसे बड़ी बिल्ली ओमार के बारे में

जाने दुनिया की सबसे बड़ी गुफा ‘Hang Son Doong के बारे में

Source : webdunia




Top Trends on NewsDailyo

» नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर हम जानते हैं उन से जुड़ी कुछ रोचक बातें» आसान तरीके से आप घर पर भी बना सकते हैं, डालगोना कॉफी इस विधि के द्वारा» Mumbai Assaults Mastermind Hafiz Saeed Documents Request Of In Un To Drop Fear Based Oppressor Tag » Now The Aadhaar Number Will Be Replaced By The Virtual Number For Government Verification, This Big Change Since June 1» भारतीय बल्लेबाज रोहित शर्मा की जीवनी, प्यार और कैरियर के बारे में» Hobby Is A Big Thing, But It's A Lot More Shocking! This Woman Became A Dragon By Spending 36 Lakh Rupees» अगर करना है,घर बैठे अपने वजन को कम तो आजमाएं, ये घरेलू नुस्खे» बॉलीवुड की पांच खूबसूरत अभिनेत्री, जिनके जलवे देख,आप हो जाएंगे फिदा» जानिए किस तरह अंडे हमारे लिए लाभदायक और हानिकारक दोनो है » जानिए वे 4 झूठ जो हर लड़की अपने बॉयफ्रेंड से बोलती है» करीना कपूर से जुड़े 10 रोचक तथ्य» Bjp Leader Called 'draupathi A Feminist' And He Was Necked In Twitter» Some Amazing Jobs In The World» अरे भिया आप भी इंदौरी हो क्या......?» गुजराती स्वाद खमण ढोकला