Entertainment Hatke Viral Lifestyle Sports Travel News Fashion Food Deals & Offers
Home ›› Hatke ›› माखनलाल चतुर्वेदी जी की इस कविता को पढ़कर किसके अंदर स्वदेश प्रेम नहीं जागेगा ?

माखनलाल चतुर्वेदी जी की इस कविता को पढ़कर किसके अंदर स्वदेश प्रेम नहीं जागेगा ?

by Admin | Posted: Jun 08, 2018 at 18:50 | Views: 817

माखनलाल चतुर्वेदी जी की इस कविता को पढ़कर किसके अंदर स्वदेश प्रेम नहीं जागेगा ?

कविताओं की दुनियाँ में आज पढ़िए माखनलाल चतुर्वेदी को ...

पुष्प की अभिलाषा 

चाह नहीं, मैं सुरबाला के 

गहनों में गूँथा जाऊँ,
चाह नहीं प्रेमी-माला में बिंध
प्यारी को ललचाऊँ,

चाह नहीं सम्राटों के शव पर
हे हरि डाला जाऊँ,
चाह नहीं देवों के सिर पर
चढूँ भाग्य पर इठलाऊँ,

मुझे तोड़ लेना बनमाली,
उस पथ पर देना तुम फेंक!
मातृ-भूमि पर शीश- चढ़ाने,
जिस पथ पर जावें वीर अनेक!

Source : Google




Top Trends on NewsDailyo

» Dhriubhai Ambani School Makes Why All Celebrities Are Attracted To It» Ed Sheeran: Film With Srk Would Be Very Cool» Salman Khan Gets Permission To Go Abroad» Disha Patani Hot Photoshoot For Maxim India» Delhi: Supreme Court Issues Notice To Centre, Up, Haryana, Punjab And Delhi Governments On Stubble Burning» चाणक्य के बारे में कुछ ऐसे दिलचस्प तथ्य जो शायद आपको ना पता हो ?» Trending Nail Polish Design For Girls» Actress Who Poses Nude For Fame» Cisce Drops Pass Check Criteria Of Icse, Isc Examination, Official Notice Discharged On Cisce.org » Rahul’s Body Language Resembles Gabbar Singh’s: Union Minister Giriraj» Not So Incredible India? Swiss Couple Harassed And Thrashed By Locals In Agra» 7 Strange Places Where People Actually Live» 7.3 Magnitude Earthquake Hits Iran-iraq Border, 407 Died And 6700 Injured» Kendall Jenner Becomes World's Highest Paid Model In 2017» ईद के मुबारक मौके पर आज पढ़िए मुंशी प्रेमचन्द की कहानी