Entertainment Hatke Viral Lifestyle Sports Travel News Fashion Food Deals & Offers
Home ›› Hatke ›› माखनलाल चतुर्वेदी जी की इस कविता को पढ़कर किसके अंदर स्वदेश प्रेम नहीं जागेगा ?

माखनलाल चतुर्वेदी जी की इस कविता को पढ़कर किसके अंदर स्वदेश प्रेम नहीं जागेगा ?

by Admin | Posted: Jun 08, 2018 at 18:50 | Views: 489

माखनलाल चतुर्वेदी जी की इस कविता को पढ़कर किसके अंदर स्वदेश प्रेम नहीं जागेगा ?

कविताओं की दुनियाँ में आज पढ़िए माखनलाल चतुर्वेदी को ...

पुष्प की अभिलाषा 

चाह नहीं, मैं सुरबाला के 

गहनों में गूँथा जाऊँ,
चाह नहीं प्रेमी-माला में बिंध
प्यारी को ललचाऊँ,

चाह नहीं सम्राटों के शव पर
हे हरि डाला जाऊँ,
चाह नहीं देवों के सिर पर
चढूँ भाग्य पर इठलाऊँ,

मुझे तोड़ लेना बनमाली,
उस पथ पर देना तुम फेंक!
मातृ-भूमि पर शीश- चढ़ाने,
जिस पथ पर जावें वीर अनेक!

Source : Google




Top Trends on NewsDailyo

» Cisce Drops Pass Check Criteria Of Icse, Isc Examination, Official Notice Discharged On Cisce.org » Do You Know That 286 Runs In 1 Ball Can Also Be Scored In The Cricket Match?» 10 Weird Customs From Across The World That Will Make You Go Wtf» आज पढ़िए एक खूबसूरत प्रेम कहानी - सड़क (अंतिम भाग)» Santa Brings Happiness - A Quick View Of Santa Across The World» Top 10 Smallest Countries In World To Travel» Viral Video: Telangana Police Officer Gets Massage From Woman Cop» This Bold New Startup Is Helping Unmarried Indian Couples Book Hotel Rooms Without Being Harassed » Top 10 Box Office Hit Ever» 18 Months Of Suffering With Bipolar And Now Its Comeback Time For Honey Singh» Disha Patani Hot Photo Shoot» Love Life Of Our Famous Indian Cricketers» Phogats On Top! Vinesh, Ritu Bag Gold At Wrestling Nationals» ईद के मुबारक मौके पर आज पढ़िए मुंशी प्रेमचन्द की कहानी » Top 10 Most Amazing Places On Earth, You Must See Once In Life