Food Travel Hatke Fashion Lifestyle Viral Health Entertainment Sports News Deals & Offers
Home ›› Travel ›› ग़ौर हिंदुओ का जाना है मना.....जानिए इस 1000 साल से भी ज्यादा प्राचीन मंदिर के बारे में

ग़ौर हिंदुओ का जाना है मना.....जानिए इस 1000 साल से भी ज्यादा प्राचीन मंदिर के बारे में

by Kajal Kori | Posted: Jan 18, 2021 at 23:20 | Views: 349

ग़ौर हिंदुओ का जाना है मना.....जानिए इस 1000 साल से भी ज्यादा प्राचीन मंदिर के बारे में
Source: tripoto

दुनियां में कई ऐसे मंदिर है जिनमें दूसरे धर्म के लोगों का आना वर्जित है, हिंदू धर्म का एक ऐसा ही मंदिर स्थित है ओड़िशा के भुवनेश्वर में जिसे 'लिंगराज' मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर त्रिभुवनेश्वर को समर्पित है, 1000 वर्षों से भी अधिक प्राचीन यह मंदिर पौराणिक समय की बेहद उत्कृष्ट वास्तुकला का नमूना है...... वाकई इतिहास की ऐसी कई अनगिनत कलाकृति और धरोहरें है जो हमें अपने पूर्वजों की विलक्षण कला का भान कराती हैं। 
यह मंदिर कितना प्राचीन और अद्वितीय है इस बात का पता इसी से चलता है कि इस मंदिर का उल्लेख ब्रह्म पुराण में भी किया गया हैं।
मंदिर का निर्माण कार्य 11वी ( या 6टी शताब्दी, इसके बारे में मतभेद है)  शताब्दी में सोमवंशी राजा ययाति केसरी द्वारा करवाया गया था। वहीं अगर मंदिर की वास्तुकला की बात की जाए तो इसका निर्माण देउल शैली में किया गया है, मंदिर का प्रांगण इतना बड़ा है कि इसमें कई अन्य छोटे मंदिर भी बने हुए हैं। मंदिर की दीवारों पर बहुत ही सुन्दर तरीके से मूर्तियां को उकेरा गया है जिसके आसपास महीन नक्काशी कर सुन्दर डिज़ाइन बनाई गई हैं, इनमें से कई डिज़ाइन्स को अभी भी साफ़ तौर पर देखा जा सकता है।
मंदिर के अंदर गर्भगृह में भगवान का अद्भुत शिवलिंग स्थापित है जिसके आधे भाग में शिव जी हैं और आधे भाग में विष्णु जी हैं, इसके साथ ही मंदिर में देवी पार्वती, गणेश जी और विष्णु जी की प्रतिमाएं और तस्वीरें भी मौजूद है। मान्यताओं के अनुसार कहा जाता है कि माता पार्वती ने इसी स्थान पर 'लिट्टी' और 'वसा' नामक दो उत्पाती राक्षसों का वध किया था, भयंकर युद्ध के बाद जब माता पार्वती को प्यास लगी तब शिवजी ने यहां एक कूप बनाकर सभी पवित्र नदियों का आव्हान किया और माता पार्वती की प्यास बुझाई। इस कूप का नाम बिंदुसागर पड़ा जिसके पास यह भव्य मंदिर स्थित है। इस मंदिर में हर रोज करीब छह हज़ार श्रद्धालुओं का आगमन होता है वहीं शिवरात्रि जैसे विशेष पर्व पर यहां अलग ही रौनक देखने को मिलती है। 

ध्यान रखने वाली बात -

• मंदिर में गैर हिंदुओं को आना वर्जित है, साथ ही मंदिर में,मोबाइल और चमड़े से निर्मित कोई भी वस्तु लाना निषेध है। 
• मंदिर आम लोगों के दर्शन के लिए सुबह 6:30 बजे खुलता है और रात 10:30 मंदिर के कपाट बन्द के दिए जाते हैं 

ALSO READ :

जानते हैं, एक अद्भुत गुलाबी रंगीन झील के बारे में

जानते हैं एक ऐसे शहर के बारे में जहां पर रहने के लिए राजनीति और पैसे की जरूरत नहीं होती है

जानते हैं,दुनिया के सबसे खूबसूरत गांव के बारे में जहां पर सङके नहीं है

अगर आप जा रहे हैं,हिमाचल घूमने तो इन खूबसूरत जगह पर जरूर जाएं

जानते हैं मैट्रो सिटी पुणे के पर्यटन स्थलों के बारे में





Top Trends on NewsDailyo

» ठंड के मौसम में अगर पाना है, फटे हुए हथेलियों से छुटकारा तो आजमाएं, ये घरेलू टिप्स» अगर अपने शरीर को रखना है, स्वस्थ तो पानी में मिलाऐ ,ये सभी चीजें» ये है दुनिया के 5 सबसे सुंदर त्यौहार» भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली के जीवनी के बारे में» 10 Healthy Ways To Burn Your Obesity» Vijay Mallya's Kingfisher House To Be Auctioned For The 6th Time» Salman Gets Bail: Judge Comes To Court ... Sitting ... And Suddenly Speak - Bell Granted» त्रिवेणी संगम 'कन्याकुमारी'» इंदौर शहर के सराफा बाज़ार की एक शाम» Bollywood Celebrities Whose Birthdays Are During December» 5 Reasons Why The 2g Scam Judgement Was Not Aprropriate» Sachin Tendulkar's Farewell Speech On The 4th Anniversary Of His Retirement» आसान तरीके से ठंड के मौसम बनाएं, मक्के की रोटी और सरसों का साग इस विधि के द्वारा» गंजेपन से छुटकारा पाने के लिए आजमाएं ये, 5 बेहतरीन टिप्स» Viral Video: Daredevil Cop Shoots Two Burglars Dead While Holding Child In His Arms